Wednesday, 23 September 2015

राहुल चिंतन नहीं करते, चिंतन का ढोग करते हैं

चिंतन- मनन से व्यक्ति को अपनी दुर्बलताओं का अहसास होता हैं। जो गलतियां हुर्इ है, उन्हें सुधारने की प्रेरणा मिलती है। चिंतन से विचारों में गम्भीरता झलकती है। चिंतक की वाणी ओजपूर्ण हो जाती है, जिससे भाव अभिव्यक्ति में कर्कशता नहीं होती, तार्किकता और माधुर्य होता है, जो जनमानस को मंत्रमुग्ध कर उसे मोहित कर देता है। राहुल के व्यक्तित्व में इन सभी गुणों का क्षणांस भी नहीं हैं। राहुल न चिंतन करते हैं, न चिंतक है, कांग्रेस पार्टी को उनका व्यक्तित्व काफी बोझिल लग रहा है और कांग्रेसी जन पार्टी के दुखद भविष्य को ले कर चिंतित है।
हकीकत यह है कि राहुल ने कभी देश की समस्याओं के बारें में चितन नहीं किया। उनका भारत के इतिहास  और संस्कृति के बारें में ज्ञान शून्य है। उन्होंने कभी भारतीय संविधान, भारत की राजनीतिक, सामाजिक व आर्थिक परिस्थितियों का अध्ययन नहीं किया। गरीबों और मजदूरों की समस्याओं का उन्हें ज्ञान नहीं है। दरअसल  उनका अपना कोर्इ निज विचार  है ही नहीं। भारत के संबंध में वे क्या सोचते हैं और उनका क्या चिंतन है, न तो उन्होंने किसी लेख में लिपिबद्ध किया और न ही किसी भाषण में अभिव्यक्त किया।  चिंतन और चिंता से वे कोसो दूर है। चिंतन शब्द उन्हें उनके अनन्य भक्तों ने भेंट किया है। भक्त ही कहते हैं कि वे विदेश से देश के लिए चिंतन करते हुए लौटें हैं।  चिंतन के बाद वे आक्रामक हुए है। उनके भक्तों के प्रचार प्रपोगंड़े को ही भारतीय समाचार मीडिया प्रचारित करता रहता है।
राहुल विदेशों में अय्याशी करने जाते हैं, चिंतन करने नहीं। चिंतन तो घर के किसी कोने में एकांत में बैठ कर भी किया जा सकता है, उसके लिए विदेश जाने की आवश्यकता नहीं रहती। विदेश से आ कर उन्होंने संसद में जो छिछोरा भाषण दिया और जिस तरह अपने सांसदों को उपद्रव करने के लिए उकसाया, उससे भारतीय लोकतंत्र की गरिमा नष्ट हुर्इ है। भारतीय संसद कलंकित हुर्इ है। भारतीय संसद का हाल जो कभी मूर्धन्य सांसदों के ओजपूर्ण, विचारोतेजक और सारगर्भित भाषण से गूंजा करता था, उसी संसद में राहुल ने बेतुका, बेहुदा, अतार्किक और मर्यादाहीन भाषण दिया, जो संसद के रिकार्ड़ में भी रखने के लिए उपयुक्त नहीं है, उस भाषण में उनके भक्तों को राहुल के चिंतन का प्रभाव दिखार्इ दे रहा है।  स्वामीभक्ति का इससे निकृष्टतम उदाहरण और हो भी क्या सकता है ?
राहुल के र्इर्द-गिर्द भी कोर्इ चिंतक नहीं है। जो भी उनके स्क्रीप्ट रार्इटर है, वे उनके व्यक्तित्व को और अधिक छिछोरा बना रहे हैं। सम्भवत: कांग्रेस के पतन का कारण भी गांधी परिवार के साये के साथ जुड़े हुए वे लोग हैं, जिनकी सलाह पर चल कर इस परिवार ने कांग्रेस पार्टी को गहरी क्षति पहुंचार्इ है। राहुल को नरेन्द्र मोदी के स्वच्छता अभियान का उपहास उड़ाना कहां जरुरी था ? क्या स्वच्छता के पीछे उन्हें कोर्इ उद्धेश्य छुपा नहीं दिखार्इ दे रहा है ? स्वच्छ भारत का नारा दे कर प्रधानमंत्री ने कौनसा पाप कर दिया ? इसी तरह योग को प्रोत्साहित करने का जो विश्वस्तरीय प्रयास नरेन्द्र मोदी ने किया है, उसकी सराहना दुनियां कर रही है, किन्तु ऐसे मिशन की आलोचना करना राहुल अपना परम कर्तव्य समझते हैं। मेक इन इंड़िया के नारे के पीछे का अर्थ समझे बिना राहुल ने कह दिया- टेक इंड़िया। यह कितनी ओछी ओर बेतुकी बात है। क्या नरेन्द्र मोदी ने बुलेट के बल पर सत्ता पर नियंत्रण किया है ? बेलेट से जीती हुर्इ जंग का मजाक उड़ा कर राहुल उन करोड़ो भारतीयों का अपमान नहीं कर रहे है, जिन्होंने नरेन्द्र मोदी के पक्ष में मतदान किया था ? राहुल इस बात को समझ क्यों नहीं पा रहे हैं कि  भारतीय जनता ने एक परिवार को सत्ता से बाहर कर साधारण परिवार से ऊपर उठे एक कर्मयोगी पर भरोसा कर सत्ता सौंपी है। यह लोकतंत्र की परिपक्कता की निशानी है, जो साबित करती है कि राहुल गांधी भारत के आम नागरिक से भी कम राजनीतिक सोच रखते हैं।
भूमिअधिग्रहण कानून संशोधन बिल पर पूरे देश में यह भ्रम फैलाया गया कि इस कानून के तहत मोदी सरकार किसानों की जमीन छीन कर पूंजीपत्तियों को देने जा रही है। सरकार इस बिल से पीछे हट गर्इ, क्योंकि पूरे देश में अनावश्यक भ्रम में डालना सही नहीं था। परन्तु कांग्रेस पार्टी इसके पीछे राहुल की रणनीति की जीत बता  कर प्रचारित कर रहे हैं। यद्यपि मोदी सरकार ने अब तक किसानों की एक इंच जमीन भी छीन कर पूंजीपत्तियों को नहीं दी है, किन्तु कांग्रेस ने अपने शासन के साठ सालों में किसानों की लाखों एकड़ जमीन छीन कर पूंजीपत्तियों को दी है, उसका हिसाब सरकार के पास है। अच्छा होगा सरकार दुष्प्रचार के जवाब में सारा हिसाब जनता को दिखाये, ताकि कांग्रेसी नंगे हो जाये।
राहुल ने खूब चिंतन मनन कर लिया अब वे पार्टी नेताओं  को चिंतन करने के लिए प्रोत्साहित कर रहे हैं। चिंतन देश की तरक्की, खुशहाली और आम जन की भलार्इ के लिए नहीं किया जा रहा है, वरन इस बात को ले कर किया जा रहा है कि कैसे झूठे दुष्प्रचार के जरिये मोदी सरकार को कठघरें में खड़ा किया जा सके ? कैसे नरेन्द्र मोदी पर अनावश्यक आरोप लगा कर उनकी छवि विद्रुप बनार्इ जा सके़ ? किन्तु इस बारें में चिंतन, मनन और मंथन पर प्रतिबन्ध है कि कांग्रेस पार्टी निरन्तर रसातल में क्यों जा रही है ? भारत के प्रमुख राज्यों में चोथे और पांचवें नम्बर पर क्यों पहुंच गर्इ ? लोकसभा चुनावों के दौरान जिन राज्यों में उसकी सरकारे थीं, वहां शून्य क्यों हाथ लगा ? लोकसभा में उसका संख्या बल मात्र चंवालिस पर क्यों पहुंच गया ? क्या कांग्रेस पार्टी का वर्तमान नेतृत्व पार्टी को पुरानी स्थिति में पहुंचा पायेगा ? यदि कमजोर नेतृत्व के कारण पार्टी डूब रही है, तो क्या नेतृत्व परिवर्तन पर चिंतन किया जायेगा ?
यदि राहुल वास्तव में चिंतन करते हैं, भारतीय नागरिकों की समस्याओं को ले कर चिंतित हैं, तो अपने दस वर्ष के कार्यकाल में मनमोहन सरकार को ऐतिहासिक घोटालें करने से क्यों नहीं रोका ? उनकी सरकार के कार्यकाल में महंगार्इ, बैरोजगारी और गरीबी भयावह रुप से बढ़ी थी, उस समय वे गरीबों, मजदूरों, किसानों की पीड़ा को ले कर दुखी क्यों नहीं हुए ? दस वर्षों के पापों पर कोर्इ पछतावा नहीं, कोर्इ चिंतन नहीं, पर सोलह माह पुरानी सरकार को सारे पापों के लिए दोषी समझा जा रहा है। बेहतर है दूसरों के पाप गिनाने के पहले पापियों को अपने पापों को स्वीकार कर जनता से क्षमा मांगनी चाहिये। राहुल को यह बात याद रखनी चाहिये कि जनता उनकी सरकार के कर्मों को भूली नहीं है। जब तक राहुल अपनी सरकार के कामों की माफी नहीं मांगेंगे. जनता उन्हें कभी अपना नेता स्वीकार नहीं करेगी। वे अपने कुछ चापलुसों के ही नेता बन कर रह जायेंगे। राहुल  चिंतन का ढोंग करते रहेंगे और भारत की जनता उनके चिंतन का उपहास उड़ाती रहेगी।  राहुल बकवास करते हुए घूमते रहेंगे और कांग्रेस सत्ता से दूर जाती रहेगी। यदि ऐसा ही चलता रहा तो कांग्रेस के अच्छे दिन लौटने की कोर्इ सम्भावना नहीं है।