Sunday, 21 April 2013

NATHURAM GOTSE

दोस्तो, मेरी इस बात को मेरे वे सभी मित्र बिना कुतर्क किये शान्ति से सुनें, जो किसी आरक्षित वर्ग से सम्बंधित रखते हैं | दोस्तों, सत्ता मुट्ठी में आने पर कांग्रेस ने चुनावी गणित के आधार पर हमेशा बहुमत में रहने के लिए दो चालें चलीं - (१) मुसलमानों का तुष्टीकरण - ताकि मुसलमान हमेशा उनके वोटर बने रहें और (२) आरक्षण द्वारा लगभग ३५ % हिन्दुओं को अन्य हिन्दुओं से अलग करना | जबकि वास्तव में इन ६५ वर्षों में यदि साफ़ नीयत से देश का विकास होता तो आज हमारे देश में रोज़गार के इतने अवसर होते की हम सभी भारतवासी ही नहीं बल्कि अन्य देश के नागरिक भी हमारे देश में आकर रोज़गार पाते | किन्तु ऐसा कुछ नहीं किया गया | बल्कि केवल हमारे बीच एक दीवार खींची गयी जिसके एक तरफ कुछ लोग स्वयं को आरक्षित कहकर क़ैद हैं तो दूसरी तरफ कुछ लोग स्वयं को अनारक्षित कहकर क़ैद हैं | इस दीवार ने हम दोनों को ही बेरोजगार, कमज़ोर, गरीब और शोषित बना रखा है जबकि हम सब एक होकर खुद को ऐसी ताक़त बना सकते हैं जो सत्ताधारियों को तेज़ी से देश का विकास कर के हम सब की बेरोजगारी और गरीबी दूर करने के लिए विवश कर सकती है | यह संभव है जिसे - गुजरात में नरेन्द्र मोदी ने सिद्ध किया है और केवल १० वर्ष में मोदी ने गुजरात को देश के अन्य सभी राज्यों से आगे कर दिया है | अब गुजरात में बेरोजगारी मात्र २ % के करीब है | यदि गुजरात के रेगिस्तान कुछ प्राकृतिक आपदाएं पैदा न करते तो अब तक गुजरात १०० % बेरोजगारी मुक्त प्रदेश बन जाता | इसी आधार पर मेरा आप सब से आग्रह है कि - हम सब एकजुट होकर मोदी को प्रधानमंत्री बनाने के लिए आवाज़ उठायें , जिससे ईमानदार-राष्ट्रभक्त मोदी का भ्रष्टाचार मुक्त शासन भारत को तेज़ी से विकास के मार्ग पर आगे बढ़ा सके | हमें यह आवाज़ उठाना है कि हमें आरक्षण का प्रमाणपत्र नहीं रोज़गार चाहिए और हमें केवल अपने लिए नहीं बल्कि देश के सारे बेरोजगारों के लिए रोज़गार चाहिए ताकि हमारा प्यारा हिन्दुस्तान देश का सबसे संपन्न और शक्तिशाली राष्ट्र बन सके.........जय हिन्द .......वन्दे मातरम्...... जय श्रीराम.......NATHURAM GOTSE